Tagged: sad poem

तेजाब के हमले में घायल एक लड़की के दिल से निकलीं कुछ पंक्तियाँ 0

तेजाब के हमले में घायल एक लड़की के दिल से निकलीं कुछ पंक्तियाँ

तेजाब के हमले में घायल एक लड़की के दिल से निकलीं कुछ पंक्तियाँ ———————————————————— चलो, फेंक दिया सो फेंक दिया…. अब कसूर भी बता दो मेरा तुम्हारा इजहार था मेरा इन्कार था बस इतनी...

0

इश्क़ दर्द है

सबने कहा इश्क़ दर्द है; हमने कहा यह दर्द भी क़बूल है; सबने कहा इस दर्द के साथ जी नहीं पाओगे; हमने कहा इस दर्द के साथ मरना भी क़बूल है।