Tagged: Love Poetry

0

ऐ चाँद तू किस मजहब का है !! ईद भी तेरी और करवाचौथ भी तेरा!

बैठ जाता हूं मिट्टी पे अक्सर… क्योंकि मुझे अपनी औकात अच्छी लगती है.. मैंने समंदर से सीखा है जीने का सलीक़ा, चुपचाप से बहना और अपनी मौज में रहना ।। चाहता तो हु की...

Rab Razi To Sab Razi 1

वाह रे बनिये वा

  एक बनिया व्यापारी मुबंई की बैँक मेँ गया, और बैँक मेनेजर से रु.50,000 का लोन मांगा. बैँक मेनेजर ने गेरेँटर मांगा. बनिया अपनी BMW कार जो बैँक के सामने पार्क की हुई थी...

ये खड्डा किसलिए खोदा जा रहा है? 0

ये खड्डा किसलिए खोदा जा रहा है?

बंता:संता सिंह जी!..ये खड्डा किसलिए खोदा जा रहा है?” संता:ओ!..कुछ नहीं जी मुझे अमेरिका जाना है ना…इसलिए” बंता:अमेरिका जाना है?” संता:हाँ जी!..” बंता:अमेरिका जाने के लिए खड्डा खोदना जरूरी है? संता:ओ!..कर दी ना तूने...

Sms nahi karna chahte to Apni tasveer bhi wapis le lo 0

Sms nahi karna chahte to Apni tasveer bhi wapis le lo

Sms nahi karna chahte to Apni tasveer bhi wapis le lo ? . . lo . . . . (\_/) (.”.)”^- —” \./”( , _ ,_; )\ _// _// TUM BADAL GAY MERE DOST…:-D