Tagged: Love Poetry

0

जाने कभी गुलाब लगती हे, जाने कभी शबाब लगती हे

जाने कभी गुलाब लगती हे जाने कभी शबाब लगती हे तेरी आखें ही हमें बहारों का ख्बाब लगती हे में पिए रहु या न पिए रहु, लड़खड़ाकर ही चलता हु क्योकि तेरी गली कि...

Tourism is the next big thing 0

Tourism is the next big thing

Tourism is the next big thing. All countries are trying to attract more tourists. See the taglines. Thailand: Amazing Thailand India: Incredible India Malaysia: Truly Asia Australia: There’s nothing like Australia Question: Have you...

इंडिया में जितने ज्यादा ” रेल्वे फाटक “है 0

इंडिया में जितने ज्यादा ” रेल्वे फाटक “है

इंडिया में जितने ज्यादा ” रेल्वे फाटक “है…. . . . . . . . . . . उससे ज्यादा तो “बीवियों ” के नाटक हैं…! Wah wah..

Aap ko dekh kr rab ki yad aati h 0

Aap ko dekh kr rab ki yad aati h

Aap ko dekh kr rab ki yad aati h, Aap ki hasi dekh kr jine ki tmanna jag jati h,,, Hum to bs apka naam lete h, khusiyan chehre pe apne aap aa jati...

Saath Agar Doge To Muskarayenge Zarur 0

Saath Agar Doge To Muskarayenge Zarur

Saath agr doge to muskarayenge zarur, Dosti agr dil se karoge to nibhayenge zarur, Raah me kitne kante q na ho, Awaz agr dil se doge to aayenge zarur…… 😀 😀

0

दोस्ती जब किसी से की जाये

दोस्ती जब किसी से की जाये तो दुश्मनों की भी राय ली जाये; मौत का ज़हर है फिज़ाओं में अब कहाँ जा कर सांस ली जाये; बस इसी सोच में हूँ डूबा हुआ कि...

आज भी सूना पड़ा है हर एक मंज़र 0

आज भी सूना पड़ा है हर एक मंज़र

आज भी सूना पड़ा है हर एक मंज़र; तेरे जाने से सब कुछ वीरान लगता है; उस रास्ते पे आज भी हम तेरी राह देखते हैं; जहाँ से तेरा लौट आना आसान लगता है।

0

दोस्त बनकर भी नहीं…

दोस्त बनकर भी नहीं साथ निभाने वाला; वो ही अंदाज़ है ज़ालिम का ज़माने वाला; क्या कहें कितने मरासिम थे हमारे उससे; वो जो इक शख़्स है मुँह फेर के जाने वाला; क्या ख़बर...