Tagged: daily sms

0

Main Kya karu k yehi Jayka juban ka hai

मैं खुद ज़मीन हूँ मगर ज़र्फ़ आसमान का है के टूट कर भी मेरा हौसला चट्टान का है बुरा न मान मेरे हर्फ ज़हर-ज़हर से हैं मैं क्या करूँ के येही जायका जुबान का...

0

Yu he kabhi aatay jatay kabhi tum bh jara pucho na

तुम मुझ से रूठे हो चलो माना बस यूँ ही, एक बार, हो सके तो मुड़के देखो ना थी जो कभी अपने साजन की अलबेली कैसे भरी दुनिया में खड़ी है वो अकेली यूँ...

0

आप सब में से जो-जो स्वर्ग जाना चाहता है, वह अपना हाथ ऊपर करे

एक बार एक मंदिर में प्रवचन चल रहा होता है तो प्रवचन देने वाला गुरु सभी भक्तों से कहता है; गुरु: आप सब में से जो-जो स्वर्ग जाना चाहता है, वह अपना हाथ ऊपर...