hast rekha vigyaan

हस्तरेखा देखने के विधि

हर शिक्षा की तरह हस्त रेखा शिक्षण के लिए भी कुछ विधि हैं । अगर आप हस्त रेखा का ज्ञान लेना चाहते हैं तो आपको इन बातों का ज्ञान होना ही चाहिए। यह विधि बेहद आसान है जैसे सुबह के समय ही हाथ देखना चाहिए. इसके अलावा सामुद्रिक शास्त्र के अनुसार हाथ दिखाने वाले व्यक्ति को खाना खाने के तुरंत बाद या अधिक काम करने के बाद हाथ नहीं दिखाना चाहिए क्यूंकि ऐसे समय में हाथों में खून का प्रवाह भिन्न हो सकता है जिससे हथेली का रंग देखने में परेशानी आ सकती है। ठंडे दिमाग और शांत मन से ही हाथ दिखाना चाहिए। अकसर लोगो द्वारा पूछा जाता हैं कि कौन-सा हाथ दिखाना चाहिए? सामुद्रिक शास्त्र के अनुसार पुरुष के दाएं यानि सीधे हाथ और महिलाओं के बाएं यानि उलटे हाथ को देख भविष्यवाणी करने की सलाह दी गई हैं। कुछ अन्य विधि इस प्रकार है कि दोपहर या रात्रि के समय हस्तरेखाओं का आंकलन करना वर्जित है। सबसे पहले मणिबंध फिर दोनों हाथों को जांचने के बाद ही भविष्यकथन की शुरुआत करनी चाहिए आदि। हस्त रेखा ज्योतिष या हस्त रेखा विज्ञान को अभी तक विज्ञान की कसौटी पर पूर्णत: खरा नहीं बताया गया है। इस बात का हमेशा ध्यान रखें कि कर्म ही प्रधान है, कर्म ही भूत है कर्म ही भविष्य और कर्म से ही आपका वर्तमान बन रहा है, कर्म पर ध्यान दें सब सही होगा।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *