Anger Quotes,Beauty Quotes,Best Quotes,Birthday Quotes,Cute Quotes,Emotional Stories,Encouraging quotes,Family Quotes,Fitness Quotes,Funny Quotes,Happiness Quotes,Inspirational Quotes,Inspirational Stories,Life Quotes,Love Quotes,Love Stories,Motivational Quotes,Moving On Quotes,Sad Quotes,Seasons and Festivals,Share Your Story,Short Stories,Spiritual Quotes,Stories of Legends,Success Quotes,Team Quotes,Trust Quotes,Wishes & Specials

सकारात्मक सोच के साथ निर्मल मन से होती है सच्ची आराधना

मंदिरों में भगवान की आराधना करने वालों की संख्या प्रतिदिन बढ़ती जा रही है लेकिन हम यह भी देख रहे हैं कि प्रतिदिन दुख और उनके साधन भी बढ़ रहे हैं। हम शायद यह समझ नहीं पा रहे हैं कि…

who is shakuntla

Who Is Shakuntla?

शकुंतला कौन थी? महर्षि विश्वामित्र वन में कठोर तपस्या में लीन बैठे हुए थे चेहरे पर एक तेज, शरीर में किसी प्रकार की हलचल नहीं, आसपास जानवर घूम रहे थे, चिड़िया चहक रही थी, लेकिन ऋषि के तप को भंग…

Paap Ka Guru Kaun Hain

पाप का गुरु

एक पंडित जी कई वर्षों तक काशी में शास्त्रों का अध्ययन करने के बाद अपने गांव लौटे। गांव के एक किसान ने उनसे पूछा, पंडित जी आप हमें यह बताइए कि पाप का गुरु कौन है? प्रश्न सुन कर पंडित…

mirror

दर्पण

दर्पण– दर्पण कांच की संरचना तक सीमित नहीं हैं।मन के लिए संसार की संरचना की दर्पण है।।मन का अपना प्रतिबिंब ही संसार में झलकता है।फूलों के लिए सारा जगत फूल है और कांटों के लिए काटा।मन के अनुरूप ही संसार…

tulna

Comparison

तुलना तुलना रुग्णता है, बहुत बड़ी रुग्णता है। प्रारंभ से ही हमें तुलना करना सिखाया जाता है। तुम्हारी मां तुम्हारी तुलना दूसरे बच्चों से करने लगती है। तुम्हारे पिता तुलना करते हैं। शिक्षक कहते हैं, “गोपाल को देखो, वह कितना…

aaj ka gyan

चरित्रहीन स्त्री

‘चरित्रहीन’ स्त्री स्त्री तबतक ‘चरित्रहीन’ नहीं हो सकती जबतक कि पुरुष चरित्रहीन न हो। संन्यास लेने के बाद गौतमबुद्ध ने अनेक क्षेत्रों की यात्रा की। एक बार वे एक गांव गए। वहां एक स्त्री उनके पास आई और बोली आप…

bada he sundar jawab

बड़ा ही सुन्दर जवाब

एक बालक रोजाना स्कूल में खाना खाते वक्त टिफिन पूरी पोंछ कर खाता….. एक कण भी न बचाता । उसके दोस्त उसका मज़ाक उडाते। एक ने पुछा,” तुम रोजाना टिफिन में एक कण भी नही छोड़ते? ” उसका बड़ा ही…

इस पृथ्वी को स्वर्ग बनाओ। स्वर्ग कहीं और है और नरक तुमने यहां बना लिया

इस पृथ्वी को स्वर्ग बनाओ। स्वर्ग कहीं और है और नरक तुमने यहां बना लिया

“इस पृथ्वी को स्वर्ग बनाओ। स्वर्ग कहीं और है और नरक तुमने यहां बना लिया” “बहुत हो चुकीं स्वर्ग की बातें जो कहीं और है। इस पृथ्वी को स्वर्ग बनाओ।” “उतारो, परमात्मा को थोड़ा तुमसे पृथ्वी पर लाओ। सेतु बनो,…

दुनियां में सिकन्दर कोई नहीं वक्त सिकन्दर होता है

सिकन्दर उस जल की तलाश में था, जिसे पीने से मानव अमर हो जाते हैं.!🦍 दुनियाँ भर को जीतने के जो उसने आयोजन किए, वह अमृत की तलाश के लिए ही थे ! काफी दिनों तक देश दुनियाँ में भटकने…

पापा, क्या मैंने आपको कभी रुलाया" ?

पापा, क्या मैंने आपको कभी रुलाया” ?

बिटिया बड़ी हो गयी, एक रोज उसने बड़े सहज भाव में अपने पिता से पूछा – “पापा, क्या मैंने आपको कभी रुलाया” ? पिता ने कहा -“हाँ ” उसने बड़े आश्चर्य से पूछा – “कब” ? पिता ने बताया –…

यह काम परमात्मा का हे, परमात्मा जाने

शहर में एक वैधजी हुआ करते थे, जिनका मकान एक पुरानी सी इमारत में था। वैधजी रोज सुबह दुकान जाने से पहले पत्नी को कहते कि जो कुछ आज के दिन के लिए तुम्हें आवश्यकता है एक चिठ्ठी में लिख…

पुरुष का श्रृंगार

पुरुष का श्रृंगार तो स्वयम प्रकृति ने किया है.. स्त्रीया कांच का टुकड़ा है.. जो मेकअप की रौशनी पड़ने पर ही चमकती है.. किन्तु पुरुष हीरा है जो अँधेरे में भी चमकता है और उसे मेकअप की कोई आवश्यकता नहीं…