Category: Poetry

0

मूस्कराहट का कोई मोल नहीं होता

मूस्कराहट का कोई मोल नहीं होता, कुछ रिश्तों का कोई तोल नहीं होता. लोग तो मिल जाते है हर मोड़ पर, लेकिन हर कोई आप  की तरह  नहीं होता,

पुरुष का श्रृंगार 0

पुरुष का श्रृंगार

पुरुष का श्रृंगार तो स्वयम प्रकृति ने किया है.. स्त्रीया कांच का टुकड़ा है.. जो मेकअप की रौशनी पड़ने पर ही चमकती है.. किन्तु पुरुष हीरा है जो अँधेरे में भी चमकता है और...

0

जाने कभी गुलाब लगती हे, जाने कभी शबाब लगती हे

जाने कभी गुलाब लगती हे जाने कभी शबाब लगती हे तेरी आखें ही हमें बहारों का ख्बाब लगती हे में पिए रहु या न पिए रहु, लड़खड़ाकर ही चलता हु क्योकि तेरी गली कि...

0

चाँद लाकर कोई नहीं देगा

खुद को इतना भी मत बचाया कर, बारिशें हो तो भीग जाया कर। चाँद लाकर कोई नहीं देगा, अपने चेहरे से जगमगाया कर। दर्द हीरा है, दर्द मोती है, दर्द आँखों से मत बहाया...

0

भामती

एक बहुत सुंदर कहानी है। एक महान दार्शनिक था, विचारक, जिसका नाम था वाचस्पति। वह अपने अध्ययन में बहुत ज्यादा अंतर्गस्त था। एक दिन उसके पिता ने उससे कहा, ‘ अब मैं बूढ़ा हो...

Yashomati Mom Se Talking Nandlala 0

Yashomati Mom Se Talking Nandlala

Yashomati Mom Se Talkin Nandlala, Radha Q Fair, I m Q Kala, Boli Smiling Maiya Listen mere lala, Wo City K item Tu Village Ka Gwala Dats y U Kala ..^.. ,(-_-), “\””’.\’=’-. \/.\\,’...

Badi Mehnat Se 0

Badi Mehnat Se

  Badi Mehnat Se Meri Yaad Bhulai Hogi, Meri Mohabbat Ki Hasti B Mitai Hogi, La Tere Pairo Pe Marham Laga Du, Mere Dil Ko Thokar Marne Se Chot Aayi Hogi..!!

True Line 1

True Line

  True Line… ..Mushkilen Hamesha Behtreen Logon ke Hisse me hi ati hai. Q ki wo usko Bhetreen Tariqe se Anjam Dene ki Taaqat Rakhte hai.

Yaadon ke lamhe wapis nahi aate 0

Yaadon ke lamhe wapis nahi aate

  Yaadon ke lamhe wapis nahi aate..   Khushi ho janha wanha ansu nahi aate.. Ye aapki dosti ka hi to asar hai.. Jo aap hame or hum aapko bhul nahi pate……

Apne gam ki numaish naa kar 1

Apne gam ki numaish naa kar

  Apne gam ki numaish naa kar Apne naseeb ki aajmaish naa kar, jo tera hai tere pass khud aayega, har roZ usse paane ki khwahish naa kar, chu le tu aasman zamin ki...

Ek Aahat Tere Pyar Ki Hai 0

Ek Aahat Tere Pyar Ki Hai

  Ek Aahat Tere Pyar Ki Hai Dil Ko Chaahat Tere Deedar Ki Hai….. Tamanna Kisi Ki Bhi Nahi Rahi Ab….. Bas Ankho Ko Talaash Tere Mansions Rukhsar Ki Hai.!