पीढियां खप गई पता लगाते लगाते कि दुनिया किस मिट्टी की बनी है।

पीढियां खप गई पता लगाते लगाते कि दुनिया किस मिट्टी की बनी है। . . . और एक समाज सेविका ने एक मिनट मे बता दिया।। .     ये दुनिया पीतल की……

मैंने तुमको गीता दी थी पढ़ने के लिए क्या तुमने गीता पढ़ी ?

पिता : ओ बेवकूफ़। मैंने तुमको गीता दी थी पढ़ने के लिए क्या तुमने गीता पढ़ी ? कुछ। दिमाग मे घुसा। पुत्र : हाँ पिताजी पढ़ ली। और अब आप । मरने के लिए तैयार हो जाओ ( कनपटी पर…

हे इंद्रदेव

हे इंद्रदेव _/\_ अगर होली में पानी बरसाना इतना ही जरुरी था 🙂 तो बादल में दस बीस रूपये का रंग ही घोल देते 😉 हमारी होली हो जाती और आप का काम

चल आयत सुना

आतंकवादी : चल आयत सुना नहीं तो गोली मार दूंगा विद्यार्थी : “ऐसा चतुर्भुज जिसकी आमने सामने की भुजाएँ समान हो किन्तु लम्बाई चौड़ाई से अधिक हो तथा प्रत्येक कोण 90 डिग्री का हो, आयत कहलाता है” ? आतंकवादी ने…

मुहावरो के आधुनिक अर्थ

मुहावरो के आधुनिक अर्थ… 1. सुख की जान दुःख में डालना = शादी करना 2. आ बैल मुझे मार = पत्नी से पंगा लेना 3. दीवार से सर फोड़ना = पत्नी को कुछ समझाना 4. चार दिन की चांदनी वही…

इंटरनेट का अविष्कार

निगाहे ? आज ढुंढ रही,…उस महान विचारक को जिसने बरसो पहले कहा था,……. “इंटरनेट का अविष्कार,…..लोगो का समय बचाएगा”???